Hindi News

PUC Certificate जाँच में फ़ैल हो सकते है आपके Vehicle

PUC Certificate जांच में अब सिर्फ वे ही Vehicle पास हो सकेंगे जो समय पर अपने vehicle की सर्विस करवाते हैं और जिनका pollution level तय सीमा के अंतर्गत रहता है,

अब से पहले तक pollution जांच केंद्र पर एजेंट जांच में चीटिंग करके फ़ैल vehicle को भी पास कर दिया करते थे, रील और परिवहन विभाग की ओर से गुरुवार को सॉफ्टवेर अपडेट आने के बाद अब अब PUC एजेंट फ़ैल vehicle को पास नहीं कर पाएंगे.

PUC certificate

अब pollution की जाँच करते समय एजेंट के सामने एक डिस्प्ले बोर्ड पर लाइव रीडिंग आती थी, यदि कोई वाहन का pollution level ज्यादा होता था तो एजेंट vehicle की रेस कम कर देता था जिससे pollution level कम प्रतीत होता था. और वाहन pollution जाँच में पास हो जाते थे और उन्हें PUC Certificate मिल जाता था.

सॉफ्टवेर अपडेट हुआ, PUC Certificate में फ़ैल हो सकते है वाहन

परन्तु अब ऐसा नहीं होगा क्यूंकि नए सॉफ्टवेर अपडेट आ जाने से pollution की जांच करते समय एजेंट की स्क्रीन पर कोई डिस्प्ले नहीं दिखाई देगा, अब एजेंट को तब ही पता चलेगा जब या डिस्प्ले दिखाई देगी जब vehicle pollution टेस्ट में फ़ैल या पास होगा.

इस कारण अब आपके vehicle यदि pollution फैला रहे है तो सावधान हो जाइये और अपने वाहन की सर्विस करवाइए उसके बाद ही pollution की जांच करवाइए, अन्यथा आपके जांच के पैसे भी लग जायेंगे और आपका vehicle PUC जांच में फ़ैल हो सकता है, उसके बाद आपको सात दिन का समय मिलेगा आपको vehicle की सर्विस करवानी होगी और यह तय करना होगा की आपका वाहन प्रदुषण नहीं फैला रहा था तब ही आपको PUC Certificate जाँच के लिए जाना चाहिए.

100 में से 30 वाहन फ़ैल

हाल ही में नए सॉफ्टवेर आने से २ दिन में 100 vehicle की जांच में 30 vehicle PUC Certificate में फ़ैल हो गए. जबकि पहले यह आंकड़ा 100 में से सिर्फ 8 हुआ करता था.

नए सॉफ्टवेर के आने से PUC Certificate मिलने में हेराफेरी पर रोक लगेगी और आपके शहर का pollution level भी कम होगा. pollution चेक में फ़ैल होने वाले वाहनों की RC रिन्यूअल नहीं होगी, जिससे पुराने वाहन कबाड़े में जाने वाले है.

Post Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.